शनिवार, 11 सितंबर 2010

मैच फिक्सिंग


क्रिकेट को न जाने क्यों लोग अब भी खेल मानते हैं, जबकि वह शुद्ध व्यापार है; और व्यापार में दलाली या भ्रष्टाचार आम बात है। मि0 (बोफोर्स) राजीव गांधी के अनुसार जिसे भारत में दलाली कहते हैं, उसे विकसित देशों में व्यापार कहते हैं।

मैच फिक्सिंग में फंसे पाकिस्तानी खिलाड़ी यदि भारत आ जाएं, तो कांग्रेस उन्हें निश्चित ही सिर पर बैठा लेगी। यदि उनकी किस्मत अच्छी हुई, तो हो सकता है अजहरुद्दीन की तरह किसी मुस्लिम प्रभाव वाली सीट से सांसद बनने का भी मौका मिल जाए। यानि भ्रष्टाचार का एक दूसरा दरवाजा खुल जाएगा और सम्मान अलग से मिलेगा।

क्रिकेट में भ्रष्टाचार मिटाने का एक ही तरीका है कि उसका प्रदर्शन दूरदर्शन पर प्रतिबंधित कर दिया जाए। इससे यह राष्ट्रीय बीमारी साल भर में अपनी मौत आप मर जाएगी; पर दूरदर्शन वाले भी व्यापारी हैं और क्रिकेट वाले भी, ऐसे में एक व्यापारी क्या दूसरे के पेट पर लात मारेगा, यह प्रश्न भी विचारणीय है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें